Skip to main content

Posts

Featured

भगवान शिव ने तोड़ा कुबेर का अभिमान

धन के देवता कुबेर को अपने धन और समृद्धि पर अभिमान हो गया। उन्होंने अपने धन और समृद्धि का बखान करने के लिए सभी देवताओं को दावत पर आमंत्रित करने का मन बनाया। कुबेर ने सोचा कि सभी देवताओं पर उनका अच्छा प्रभाव जमेगा। सभी को लगेगा कि कुबेर जैसा कोई नहीं है।

 उन्होंने कैलाश पर्वत पहुंचकर भगवान शिव को आमंत्रित किया। भगवान शिव कुबेर के संरक्षक है। उन्होंने ही कुबेर को उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर वरदान दिया था कि उनकी संपत्ति कभी कम नहीं होगी, भले ही कितना ही खर्च करते रहें। भगवान शिव समझ गए कि कुबेर अभिमानी हो गए हैं।

भगवान शिव ने कुबेर से कहा कि वह दावत में नहीं आ सकते। वह अपने पुत्र श्रीगणेश को भेज देंगे। कुबेर निराश होकर वापस लौट गए। कुबेर सोचने लगे कि अगर भगवान शिव मेरे महल में आते तो मेरी प्रतिष्ठा बढ़ जाती। अगर भगवान शिव के परिवार से कोई भी दावत में नहीं आएंगे तो मेरा दावत करने का उद्देश्य ही सफल नहीं होगा।

कुबेर ने भव्य आयोजन किया था। सभी देवताओंं को दावत से पहले विशाल सभागार में सम्मान के साथ बैठाया गया। कुबेर ने अपनी संपत्ति और धन को दिखाने का कोई अवसर नहीं छोड़ा। मुख्य अतिथि श्री गणे…

Latest posts

आज वह खुश है जिंदगी से

सही खरीददार

जब देवताओं का घमंड दूर हो गया....

इसे कहते हैं गलतियों से सीखना

यहां तो सरकार की भी कोई नहीं सुनता साब !

किसका घोटाला, कौन सा घोटाला

मास्टर जी की छड़ी

पेड़ और उसका दोस्त

जीवन उपहार है, इसका आनंद उठाएं

बालिग होता उत्तराखंडः क्या अब मिल जाएगा सही जवाब